विनोद खन्ना की ही वजह से हेमा मालिनी ने राजनीति में किया था प्रवेश, जानिए रोचक किस्सा

7

बॉलीवुड के ‘हैंडसम हंक’ कहे जाने वाले सुपरस्टार विनोद खन्ना का आज जन्मदिन है, आज से तीन साल पहले कैंसर के कारण दुनिया को अलविदा कहने वाले विनोद खन्ना ने एक खलनायक के रूप में फिल्मी पर्दे पर कदम रखा था

और उसके बाद एक एक्टर के रूप में उन्होंने ख्याति अर्जित की थी, करियर के शीर्ष पर ओशो के शिष्य बनकर सब कुछ छोड़ने वाले विनोद खन्ना ने राजनीति में भी अपनी खाक छोड़ी, उनसे जुड़े बहुत सारे किस्से हैं,

जिनके बारे में लोगों को पता नहीं है, ऐसा ही एक खास किस्सा जुड़ा हुआ है हेमा मालिनी के साथ, जिसे कि एक इंटरव्यू में अभिनेत्री ने खुद ही बताया था।दरअसल आप में से बहुत कम लोग जानते होंगे कि हेमा मालिनी को राजनीति में लाने वाले विनोद खन्ना ही थे

और उन्होंने ही पहली बार हेमा मालिनी को पूर्व पीएम अटल बिहारी बाजपेयी से मिलवाया था, दरअसल हेमा मालिनी राजनीति में आने से पहले कई बीजेपी नेताओं से मिल चुकी थीं और उन्होंने सबसे यही कहा था

कि वो अटल बिहारी बाजपेयी से मिलना चाहती हैं लेकिन किसी ने उन्हें उनसे नहीं मिलवाया, उन्होंने अपनी ये इच्छा विनोद खन्ना से भी व्यक्त की थी।और फिर 26 सितंबर 1999 को विनोद खन्ना अचानक से हेमा मालिनी को पहली बार अटल बिहारी से मिलवाने ले गए थे,

जहां जाकर उन्हें पता चला था कि अटल बिहारी बाजपेयी उनके बड़े फैन हैं और उन्होंने उनकी फिल्म ‘सीता-गीता ‘को 25 बार देखा था, इस मुलाकात के ही बाद हेमा ने औपचारिक तौर पर राजनीति में प्रवेश किया था।

विनोद खन्ना के साथ कई फिल्मों में काम कर चुकीं हेमा मालिनी ने हमेशा खुद की राजनीति में आने का श्रेय विनोद खन्ना को ही दिया, हालांकि उनके पति धर्मेंद्र भी कभी राजनीति का हिस्सा रह चुके हैं, लेकिन उन्होंने हमेशा कहा कि विनोद की वजह से ही वो राजनीति में आईं।